ॐ नमः शिवाय

श्री जटाशंकर चालीसा ।

दोहा -    जयति जटाशंकर प्रभु ,जय त्रिभुवन सरकार ।
            चरण कमल बिच आपके ,वंदन सत् सत् वार ।।
           "निराधार" नैनन बसे ,विनय करहुँ करजोर ।
            जय गिरिजा के प्रेम धन ,करहुँ कृपा की कोर ।।
                                  --------

जयति जटाशंकर प्रतिपाला ।
देव दयानिधि दीनदयाला ।।
                ब्राजे विंध्याचल की घाटी ।
                चन्दन हो गई जाकी माटी ।।
निर्मल गंगा जटन बहाबे ।
काया के सब पाप नसाबे ।।
                पाप विनासनि वावन गंगा ।
                कर स्नान होत मन चंगा ।।
सदा वहे शीतल जलधारा ।
कंचन देह करें हर क्षारा ।।
                जय जय जय शिव अवढर दानी ।
                महिमा अकथ न जाय वखानी ।।
वाम अंग गिरिराज किशोरी ।
ब्राजी संग भरें नित झोरी ।।
                नंदीगण आंगें बैठारें ।
                भक्तन के सव कष्ट निवारें ।।
द्वारे जो दुखिया जन आवें ।
एक लोटा जल पत्र चढ़ावें ।।
                पुंगी फल अरु चावल चन्दन ।
                भेंट चढ़ा पद करते वंदन ।।
मन की होय कामना पूरी ।
दाता राखें नहीं अधूरी ।।
                रिद्धी सिद्धि सुत सम्पति दाता ।
                दाता अर्थ मोक्ष गुण ज्ञाता ।।
भई भभूति संजीवनि बूटी ।
हरै ताप त्रिय जीवन घूंटी ।।
                पुत्र जीव वट सोहत नीके ।
                कारज सफल करत सबहीके ।।
जय जय जय महेश त्रिपुरारी।
त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी।।
                शिव पद प्रीत हृदय न जाके ।
                बसें राम उर में न ताके ।।
जो दुखियारी बांझ पुकारे।
वारह पर्व अमावस ढारे ।।
                मनचाहो पावै गबुवारो ।
                गावै जग में सुयश तुम्हारो ।।
जय जय जय वाघम्वर धारी।
हरौ दुख्य प्रभु शरण तुम्हारी ।।
                मेटत कठिन कुअंक भाल के।
                काटत बंधन जटिल काल के ।।
निर्वल देह न कोउ सहारो ।
यहि अवसर मोह आन उवारो ।।
                विनय नाथ मोरी सुन लीजै।
                दास दीन पर दाया कीजै ।।
जय त्रिलोचन जय अविनासी।
आशुतोष शिव घट घट वासी ।।
                मात पिता प्रभु आप ही भ्राता ।
                अपना लीजै अपनों नाता ।।
जय जय भोलानाथ तुम्हारी।
क्षमा करहु प्रभु भूल हमारी ।।
                करहु क्षमा अवराध घनेरे ।
                अवगुण हरौ शरण प्रभु तेरे ।।
जय जटाशंकर संकट नाशन ।
मंगल करन हे विघ्न विनाशन ।।
                दानन में तुमसो न दानी ।
                वरणी ग्रंथन वेद कहानी ।।
यैसी दया दास पर कीजै ।
सदा सदा को अपना लीजै ।।
                अभयदान दीजै वरदानी ।
                गति दीजै पावै ज्यों ज्ञानी ।।
जोग जती मुनि ध्यान लगावें।
नारद शारद शीश झुकावै ।।
                नमो नमो जय जटाशंकराये।
                सुर ब्रह्मादिक पार न पाये ।।
जो यह पाठ करे मन लाई ।
सदा शंभु सुन करे सहाई ।।
                ऋणियां ऋणिेंन मुक्त हो जावै।
                पुत्र हीन सुत सम्पति पावै ।।
मनो कामना जो मन भावै ।
सोमवार शुभ दिन को आवै ।।
                धूप दीप नैवैध चढ़ावै ।
                ध्वजा भेंट कर नीर ढरावै ।।
इच्छा पूर्ण होय मन ताकी ।
लगी लगन चरणन शिव जाकी ।।
                तन नहि ताके रहे कलेशा ।
                सुमरत हर हर ह्रदय हमेशा ।।
"निराधार" हिय जानन हारे ।
पड़ा अधम एक शरण तुम्हारे ।।
                सदा शरण चाहत त्रिपुरारी ।
                हे शिव केवल आस तुम्हारी ।।

दोहा -   जयति जटाशंकर प्रभु , हर हर हर महादेव ।
           मो सम दीन अधीन पर, करियो दया सदेव ।।


लेखक - पं० शंकर प्रसाद तिवारी "निराधार "